गुंजन सक्सेना ‘द कारगिल गर्ल’ की गूंज पूरे भारत वर्ष में

gif;base64,R0lGODdhAQABAPAAAMPDwwAAACwAAAAAAQABAAACAkQBADs=

गुंजन सक्सेना ‘द कारगिल गर्ल’ :-

यह कहानी है एक आर्मी बैकग्राउंड से आई उस जांबाज लड़की की जिसके लिए इस फील्ड में आना थोड़ा कठिन था। यह कहानी 1999 में हुए कारगिल युद्ध में भारत की तरफ से पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई में शामिल होने वाली उस वीरांगना महिला पायलट की जिसका नाम गुंजन सक्सेना ‘द कारगिल गर्ल’ से मशहूर हुआ। जब हमारी सेना के जवानों पर गोलियां बरस रही थी , तब घायल जवानों को उनके खेमे तक लाने में गुंजन सक्सेना ने बहादुरी दिखाई। यह उस समय की बात है जब इंडियन एयर फोर्स में 25 गर्ल्स कि ट्रेनिंग पायलट बैच में गुंजन सक्सेना शामिल हुई थी। गुंजन सक्सेना के साथ-साथ श्रीविद्या राजन को भी इस युद्ध के दौरान याद किया जाता है। इन दोनों बहादुर महिलाओं ने अपनी जान पर खेलकर जवानों की रक्षा की। गुंजन सक्सैना कारगिल गर्ल नेटफ्लिक्स पर 12 अगस्त 2020 को प्रीमियर हुई थी ।इस बायोपिक में जाह्रवी कपूर गुंजन सक्सेना का किरदार निभा रहे हैं। इस फिल्म के निर्देशक का कारण लोगों के सामने इसलिए लाना था, कि उस समय जब महिलाओं को इतनी छूट नहीं दी जाती थी लेकिन फिर भी कुछ जांबाज महिलाओं ने अपना नाम रोशन किया। लेकिन यह बायोपिक वंश वादी जैसी बहस का शिकार हुई, हालांकि यह विवाद सोशल मीडिया और बहस बाजी तक सीमित रहा। ओटीटी प्लेटफॉर्म पर यह फिल्म नंबर वन ट्रेंड कर रही है। नेटफ्लिक्स के अलावा बांग्लादेश, मॉरीशस, श्रीलंका, कनाडा, सिंगापुर इन सब जगह है यह फिल्म ट्रेंड पर रही। इस फिल्म पर विवाद इतना बढ़ गया कि महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने इस बायोपिक की स्क्रीनिंग ना करने की अपील की उन्होंने कहा अगर यह फिल्म दिखाई जाएगी तो कोई भी इस फिल्म को नहीं देखेगा विवादों में गिरने के बाद भी इस फिल्म ने फ्रेंड रिकॉर्ड तोड़ दिया देश में नेटफ्लिक्स पर नंबर वन ट्रेन कर रही है। सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर स्टार्किड्स के खिलाफ लोगों के मन में काफी गुस्सा है। जिसको लेकर वह किसी भी स्टार किड्स की फिल्म को बायकाट करने की फिराक में रहते हैं सिर्फ आम जनता ही नहीं बल्कि कई बड़े कलाकार भी फिल्म का विरोध कर रहे हैं। सुशांत सिंह राजपूत के केस के बाद स्टार्कड्स को काफी विरोधाभास सहना पड़ रहा है। क्योंकि कई बॉलीवुड दिग्गजों का और आम जनता का मानना है। स्टार किड्स को उनके गॉडफादर की वजह से नाम मिलता है उनके अंदर कोई टैलेंट नहीं है । लेकिन वह फैमिली बैकग्राउंड की वजह से नाम कमाते हैं उन्हें इस इंडस्ट्री में आने का मौका आसानी से मिल जाता है।

रियल गुंजन सक्सेना की जीवन शैली :-

बायोपिक के दौरान गुंजन सक्सेना का संघर्ष और उनकी बहादुरी तो देखने को मिलेगी ही लेकिन जिस गुंजन सक्सेना के ऊपर यह बायोपिक बनी है उसके जीवन के बारे में जानकारी भी जरूरी है आखिर कौन है रियल लाइफ गुंजन सक्सेना , गुंजन सक्सेना का जन्म 1975 में हुआ। उनका परिवार आर्मी बैकग्राउंड से था भाई पिता सब आर्मी ऑफिसर थे। शायद यही सब देखकर उनकी दिलचस्पी इन सब में हुई दिल्ली के हंसराज कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के बाद गुंजन सक्सेना ने अपने सपने की तरफ रुख किया। गुंजन सक्सेना इंडियन एयर फोर्स की पहली महिला ऑफिसर थी जो 1999 मैं पहली बार युद्ध में गई। गुंजन सक्सेना इंडियन एयर फोर्स की पहली महिला ऑफिसर थी इस युद्ध के दौरान वीरता पूर्ण कार्य करने के लिए उन्हें शौर्य चक्र पुरस्कार मिला। और शौर्य चक्र पुरस्कार पाने वाली पहली महिला बनी। गुंजन सक्सेना के साथ-साथ उनकी साथी विद्या राजन भी इस युद्ध में शामिल हुई। गुंजन सक्सेना की शादी एक आईएएस अधिकारी जो पेशे से पायलट हैं उनसे हुई।गुंजन सक्सेना की एक बेटी भी है जिसका नाम प्रज्ञा सक्सेना है। गुंजन सक्सेना असल जिंदगी में बहुत मेहनती और बहादुर है।उनके इस जज्बे को पर्दे पर लाने के लिए और महिलाओं में जोश जगाने के लिए निर्देशक करण जौहर ने जिम्मा उठाया। उनकी इस बायोपिक में जाह्रवी कपूर ने लीड रोल निभाया।

रील लाइफ गुंजन सक्सेना (जाह्रवी कपूर) :-

गुंजन सक्सैना कारगिल गर्ल इस फिल्म में जाह्रवी कपूर, गुंजन सक्सेना का किरदार निभा रही हैं। बायोपिक में जाह्रवी कपूर का खास अंदाज़ दिखाई दिया। इस फिल्म में जाह्रवी अपने किरदार को बखूबी निभाया इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी गुंजन के पिता का रोल करते नजर आए । जाह्रवी कपूर हिंदी फिल्मों की अभिनेत्री हैं, उन्होंने अपने करियर की शुरुआत धड़क फिल्म से की जो काफी हिट रही । इस फिल्म के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण के लिए पुरस्कार मिला।जाह्रवी कपूर का जन्म मुंबई महाराष्ट्र में हुआ। हवा हवाई ‘श्रीदेवी और बोनी कपूर’ की बेटी है जाह्रवी कपूर । जानवी कपूर की एक छोटी बहन है जिसका नाम खुशी कपूर है।

फिल्म को लेकर यूजर्स की टिप्पणी :-

सोशल मीडिया के दौर मैं या तो नाम होगा या काम तमाम होगा इस बायोपिक को देखते ही कई लोगों ने इसकी तारीफ की तो वही इस फिल्म को विरोध का सामना भी करना पड़ा। जब यह बायोपिक लोगों के समक्ष आई तो कई लोगों ने फिल्म की तारीफ की महिला पायलट गुंजन सक्सैना की कहानी को सराहा उनके जज्बे को सलाम किया उनकी मेहनत उनकी बहादुरी की तारीफ की। लेकिन गुंजन सक्सेना का किरदार निभाने वाली जाह्रवी कपूर को काफी ट्रोल होना पड़ा एक युजर का कहना था, की जाह्रवी कपूर इस रोल के लिए सही नहीं थी, वहीं दूसरी ओर किसी को उनके एक्सप्रेशंस पसंद नहीं आए, किसी ने कहा उन्होंने फिल्म के लिए ज्यादा मेहनत नहीं की, एक यूजर ने कहा इस फिल्म में काफी चीजें बढ़ा चढ़ाकर दिखाई गई है जो कि सच नहीं है। इन सब बातों से यह तो समझ आया स्टार किड्स के लिए लोगों के मन में गुस्सा भरा हुआ है । इससे पहले कई स्टार्किड्स को इस गुस्से का सामना करना पड़ा।

फिल्म की कहानी पर चर्चा :-

इस कहानी की शुरुआत गुंजन सक्सेना ( जाह्रवी कपूर) के बोर्ड के रिजल्ट से होती है उसे लेकर घर में विवाद का माहौल होता है सब अपनी अपनी बातें कहते हैं कि हम गुंजन को आगे यह बनाएंगे लेकिन गुंजन एक कोने में एक सपना सजाए बैठी होती हैं वह पायलट बनना चाहती हैं। लेकिन जब परिवार के सामने वह इस बात को रखती हैं तो सब उन्हें लड़की होने का एहसास दिलाते हैं, कि तुम लड़की हो जहाज उड़ाना तुम्हारा काम नहीं है। मजबूत इरादे और सपनों को सजाए और उन्हें पूरा करने के लिए गुंजन सक्सेना आगे बढ़ती हैं। जैसे ही महिला पायलट की भर्ती निकलती है वह अपना नाम दे देते हैं और अपनी किस्मत को आजमाने लगती है। मंजिल मिलना शायद इतना आसान नहीं था गुंजन को लंबाई और वजन के कारण कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा और साथ ही साथ पुरुषों के बीच खुद को साबित करना था। लेकिन हार ना मानते हुए उन्होंने इन सब कठिनाइयों का सामना करा उधर रखते हुए वह आगे बढ़ी और अंततः अपने सपने को पूरा करने में सफल रहे।एक दृश्य में डायरेक्टर ने बेटी और एक पिता के बीच रिश्ते को काफी खूबसूरती से दिखाया है गुंजन के पिता का किरदार इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी निभा रहे हैं। इस कहानी का म्यूजिक भी काफी पसंद किया जा रहा है। और यह फिल्म नेटफ्लिक्स पर नंबर वन ट्रेंड कर रही है।

इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभाने वाले जाह्रवी कपूर, पंकज त्रिपाठी , अंगद बेदी, विनीत कुमार सिंह आयशा रजा, मानव विज आदि।