पार्श्वगायिका अनुराधा पौडवाल के बेटे का 35 साल की उम्र में निधन

gif;base64,R0lGODdhAQABAPAAAMPDwwAAACwAAAAAAQABAAACAkQBADs=

प्लेबैक सिंगर अनुराधा पौडवाल के बेटे आदित्य पौडवाल का 35 साल की उम्र में निधन हो गया। जानकारी के मुताबिक किडनी फेल होने की वजह से उनकी मौत हो गई। आदित्य काफी समय से इलाज के लिए हॉस्पिटल में भर्ती थे। आदित्य पौडवाल म्यूजिक कंपोजर थे उन्होंने 2019 में फिल्म ठाकरे के गाने साहिब टू को कंपोज किया था इस फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने मुख्य किरदार निभाया था यह फिल्म शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के ऊपर थी। साल 2020 लोगों के लिए काफी दुखद रहा खासकर बॉलीवुड इंडस्ट्री के लिए, साल 2020 में बॉलीवुड के कई बुरी खबर सुनने में आई, कई ऐसे बड़े कलाकार इंजन की असमय मृत्यु हो गई इरफान खान, सुशांत सिंह राजपूत ,वाजिद खान, ऋषि कपूर आदि। अनुराधा पौडवाल भजन गायिका तथा बॉलीवुड सिंगर है। शनिवार सुबह आदित्य पौडवाल का किडनी फेल होने की वजह से निधन हो गया आदित्य अपने पिता को 6 साल की उम्र में खो चुके थे। आदित्य भी अपने मां और पिताजी की तरह म्यूजिशियंस थे। आदित्य का नाम भारत की सबसे कम उम्र संगीत निर्देशक के रूप में लिंबा वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। आदित्य पूर्ण वालों ने अपने म्यूजिक करियर की शुरुआत अपनी मां अनुराधा पौडवाल के साथ भजन के साथ की थी।

आदित्य पौडवाल अपनी मां से काफी प्रभावित थे उन्होंने अपनी जिंदगी में जो मुकाम हासिल किया वह उसका श्रेय अपनी मां को देते थे। एक इंटरव्यू के दौरान जब आदित्य से पूछा गया कि आपकी मां बॉलीवुड को इतनी हिट गाने दे चुकी हैं जैसे दिल है कि मानता नहीं, फिर उनका रुझान भक्ति संगीत की तरफ कैसे मूड गया। इस पर आदित्य पौडवाल ने जवाब दिया कि मेरी मां नहीं भक्ति संगीत में एक बेहतर मुकाम हासिल किया है। मैंने मेरी मां की भक्ति संगीत के कारण कई लोगों की जिंदगी या बदलते देखी हैं। इसलिए मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मेरी मां भक्ति संगीत को ज्यादा महत्व देती है।

यदि अनुराधा पौडवाल के कैरियर की बात की जाए तो उन्होंने अपने करियर की शुरुआत अमिताभ बच्चन और जया बच्चन की फिल्म’अभिमान’ की जरिए अपने करियर की शुरुआत की थी।इस फिल्म में उन्होंने संस्कृत के कुछ लोगों का उपयोग किया उन्हें भक्ति संगीत में शुरू से ही लगाव था। इस फिल्म में गाने के बाद अनुराधा पौडवाल को कई ऑफर आने लगे, और उनकी जिंदगी बदल गई उन्हें बॉलीवुड में भी गाने का मौका मिला। अनुराधा ने एक अनोखा टैलेंट था कि वह हिंदी संस्कृत जैसी भाषाओं के अलावा पंजाबी, बंगाली मराठी तमिल तेलुगू उड़िया जैसी भाषाओं में गाने का सकती थी।